EPFO New Update : नौकरी बदलने पर कभी न निकालें पीएफ,3 साल तक मिलेगा ब्याज,जानें नियमों की डिटेल

EPFO New Update : नौकरी छोड़ने के बाद पीएफ खाते ( PF Account ) से पूरी रकम निकालना आपके लिए घाटे का सौदा हो सकता है। इससे आपके भविष्य के लिए बनाया जा रहा भारी भरकम फंड और बचत खत्म हो जाती है.साथ ही पेंशन की निरंतरता भी नहीं रहती.बेहतर होगा कि नई कंपनी से जुड़ें या पुरानी कंपनी में विलय कर लें। रिटायरमेंट के बाद भी अगर आपको पैसों की जरूरत नहीं है तो आप कुछ सालों के लिए पीएफ ( PF ) छोड़ सकते हैं।

EPFO New Update : नौकरी बदलने पर कभी न निकालें पीएफ,3 साल तक मिलेगा ब्याज,जानें नियमों की डिटेल

आइए जानते हैं कि नौकरी छोड़ने के बाद आपके पीएफ खाते और उसमें जमा रकम का क्या होता है। नौकरी छोड़ने के बाद भी पीएफ पर ब्याज मिलता है

विशेषज्ञों के मुताबिक,अगर कर्मचारी नौकरी छोड़ देते हैं या उन्हें किसी कारण से नौकरी से निकाल दिया जाता है,तब भी आप कुछ सालों के लिए अपना पीएफ ( PF ) छोड़ सकते हैं। अगर आपको पीएफ के पैसे की जरूरत नहीं है तो इसे तुरंत न निकालें। नौकरी छोड़ने के बाद भी पीएफ ( PF Interest ) पर ब्याज मिलता रहता है और नया रोजगार मिलते ही इसे नई कंपनी में ट्रांसफर किया जा सकता है। पीएफ का नई कंपनी में विलय किया जा सकता है.

कंपनी यह सुविधा तीन साल के लिए देती है

बता दें कि पीएफ खाते ( EPFO New Update ) पर ब्याज नौकरी छोड़ने के 36 महीने यानी 3 साल तक मिलता है। यहां यह जानना जरूरी है कि पहले 36 महीने तक कोई योगदान नहीं होने पर कर्मचारी के पीएफ खाते को निष्क्रिय खाते की श्रेणी में डाल दिया जाता था। ऐसे में आपको अपने खाते को सक्रिय रखने के लिए तीन साल से पहले कुछ रकम निकालनी होगी।

पीएफ राशि पर अर्जित ब्याज कर योग्य है

नियमों के मुताबिक,योगदान न करने पर पीएफ खाता ( PF Account ) निष्क्रिय नहीं होता है,लेकिन इस दौरान मिलने वाले ब्याज पर टैक्स लगता है। यदि पीएफ खाता निष्क्रिय होने के बाद भी दावा नहीं किया जाता है,तो राशि वरिष्ठ नागरिक कल्याण कोष ( एससीडब्ल्यूएफ ) में चली जाती है।

यह भी पढ़े Old Pension Scheme : केंद्र सरकार का बड़ा फैसला,राज्य सरकारों को दिए निर्देश,इन्हें मिलेगा लाभ,होंगे पात्र

8th Pay Commission Update : कर्मचारियों के 8वें वेतन आयोग पर केंद्र सरकार का बड़ा अपडेट