Fixed Deposit में पैसा लगाने वाले हो जाए सावधान, जरा सी चूक पड़ेगी भारी

Fixed Deposit : बैंक एफडी ( Bank Fixed Deposit ) आम निवेशक के लिए निवेश का सबसे लोकप्रिय और सुगम विकल्प है ! लेकिन क्या आप जानते हैं कि FD में निवेश करने के कुछ नुकसान भी हैं। आइए जानते हैं FD में निवेश करने से आपको क्या नुकसान हो सकता है। आइए जानते है इसके बारे में विस्तार से !

Fixed Deposit

बैंक में एफडी ( Bank Fixed Deposit ) कराना भारत में निवेश का सबसे लोकप्रिय विकल्प कहा जा सकता है। इसमें आपको कम पैसे में अपने मुताबिक निवेश करने की सुविधा मिलती है। यही वजह है कि बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट ( FD ) सबसे लोकप्रिय इन्वेस्ट ऑप्शन बना हुआ है।

FD Latest Update

मई 2022 के बाद जब आरबीआई ने लगातार रेपो दरें बढ़ानी शुरू कीं तो बैंकों ने एफडी ( Fixed Deposit ) के रेट भी खूब बढ़ाए। हाल यह है कि दो साल पहले लगभग छह फीसद रिटर्न देने वाली एफडी ( FD ) पर अब आठ प्रतिशत से ऊपर ब्याज मिल रहा है।

एक शानदार निवेश विकल्प होने के बावजूद, एफडी ( Fixed Deposit ) की बहुत-सी सीमाएं हैं। इसमें बहुत-सी कमियां हैं। इसलिए इसमें पैसा लगाने से पहले आपको यह जान लेने की जरूरत है कि नुकसान क्या-क्या हैं। एक निवेशक के तौर पर ये आपके लिए बेहद जरूरी है।

रिटर्न कम मिलता है

फिक्स्ड डिपॉजिट ( FD ) में निवेश करने का पहला नुकसान यह है कि इसमें ब्याज की दर निश्चित होती है। यानी जो ब्याज आपको बैंक ने निर्धारित कर दिया है, वह फिक्स रहता है। स्टॉक या म्यूचुअल फंड जैसे अन्य निवेश विकल्पों में आपको जो ब्याज मिलता है, वह इससे कहीं अधिक होता है।

प्रीमैच्योर विड्रॉल पर जुर्माना

अगर तय अवधि से पहले आप एफडी ( Fixed Deposit ) को ताड़ते है तो आपको जुर्माना देना होगा।

मार्केट की तेजी का लाभ नहीं मिलता

एफडी ( FD ) की एक कमी ये भी है कि आपको योजना की अवधि के अंत तक निश्चित ब्याज दर मिलती रहती है। आपको अंत तक उस दर पर ब्याज मिलता रहता है। अगर बाजार में तेजी भी आती है तो भी आपका रिटर्न निश्चित रहता है। इसमें अक्सर नुकसान होने की गुंजाइश बनी रहती है।

लॉक-इन-पीरियड

आप एफडी ( Fixed Deposit ) में निवेश करते हैं, तो एक निर्धारित अवधि तक आपका पैसा लॉक हो जाता है। ज्यादातर सावधि जमा ऐसी होती हैं कि आप इन्हें बीच में तोड़ नहीं सकते और आपने अगर बीच में इनको तोड़ा तो पेनल्टी बहुत तगड़ी देनी पड़ती है।

आपको आपका पैसा तब तक नहीं मिलेगा जब तक कि फिक्स्ड डिपॉजिट ( FD ) की अवधि समाप्त न हो जाए। लाख इमरजेंसी क्यों न हो, आपके पास जरूरत पड़ने पर आपका ही पैसा नहीं रहेगा।

ब्याज पर लगता है टैक्स

एफडी ( Fixed Deposit ) पर आपको जो भी ब्याज मिलता है, उस पर टैक्स देना पड़ता है। आपको जो भी ब्याज मिलेगा, उस पर टैक्स चुकाना होगा।

Fixed Deposit रुपये का मूल्य

आप जो भी निवेश करते है उस पर पर रिटर्न इन्फ्लेशन रेट से अधिक होना चाहिए। आमतौर पर बैंक की सावधि जमाएं इस पैरामीटर पर खरी नहीं उतरतीं। अगर एफडी ( FD ) से महंगाई को मात देने वाला रिटर्न नहीं मिलता है तो फिर उसमें निवेश करने का कोई मतलब नहीं बनता।

कैपिटल गेन्स बेनेफिट नहीं

एफडी ( Fixed Deposit ) पर कोई कैपिटल गेन्स लाभ नहीं कमाते। इससे दीर्घकालिक अवधि में आपको नुकसान होता है।

अगर बैंक दिवालिया हो जाए

एफडी ( FD ) को आमतौर पर लोग एक सुरक्षित निवेश मानते है, लेकिन वह भी तभी तक सुरक्षित है, जब तक बैंक दिवालिया नहीं होता। अगर बैंक ही डूब गया तो इस बात की कोई गारंटी नहीं कि आपकी एफडी ( Fixed Deposit ) बचेगी।

PPF Yojana Latest Update : बड़ी खबर हर महीने 12,500 रुपये निवेश कर कमाएं लाखों, जानिए कैसे